Tuesday, September 26, 2017

दृष्‍टान्‍त - एक साधु की कथा

एक साधु वर्षा के जल में प्रेम और मस्ती से भरा चला जा रहा था कि अपनी ही धुन में रहने वाले इस साधु ने एक मिठाई की दुकान को देखा जहां एक कढ़ाई में गरम दूध उबाला जा रहा था, तो मौसम के हिसाब से दूसरी कढ़ाई में गरमा गरम जलेबियां तैयार हो रही थी। साधु कुछ क्षणों के लिए वहाँ रुक गया। शायद भूख का एहसास हो रहा था या मौसम का असर था, साधु हलवाई की भट्ठी को बड़े गौर से देखने लगा साधु कुछ खाना चाहता था। अपनी मस्ती के बीच इस भूख को जान वह प्रभु को स्मरण कर मन ही मन कहा कि क्या क्या लीला करते होक्योंकि साधु की जेब ही नहीं थी तो पैसे भला कहां से होते.... साधु कुछ पल भट्ठी से हाथ  सेंकने के बाद चला ही जाना चाहता था कि नेक दिल हलवाई से रहा न गया और एक प्याला गरम दूध और कुछ जलेबियां साधु को दें दी। अपनी धुन का मस्त वो साधु प्रभु की मर्जी समझ गरम जलेबियां गरम दूध के साथ खाई और फिर हाथों को ऊपर की ओर उठाकर हलवाई के लिऐ प्रार्थना की, फिर आगे चल दिया। 

साधु बाबा का पेट भर चुका था दुनिया के दु:खों से बेपरवाह वे फिर इक नए जोश से बारिश के गंदले पानी के छींटे उड़ाता चला जा रहा था। वह इस बात से बेखबर था कि एक युवा नव विवाहिता जोड़ा भी वर्षा के जल से बचता बचाता उसके पीछे चला आ रहें है। एक बार इस मस्त साधु ने बारिश के गंदले पानी में जोर से लात मारी..... बारिश का पानी उड़ता हुआ सीधा पीछे आने वाली युवती के कपड़ों को भिगो गया उस औरत के कीमती कपड़े कीचड़ से लथपथ हो गये। उसके युवा पति से यह बात बर्दाश्त नहीं हुई, इसलिए वह आस्तीन चढ़ाकर आगे बढ़ा और साधु के कपड़ो से पकड़ कर कहने लगा अंधा है...... तुमको नज़र नहीं आता तेरी हरकत की वजह से मेरी पत्नी के कपड़े गीले हो गऐ हैं और कीचड़ से भर गऐ हैं.....। 

साधु हक्का-बक्का सा खड़ा था, जबकि इस युवा को साधु का चुप रहना नाखुशगवार गुजर रहा था।महिला ने आगे बढ़कर युवा के हाथों से साधु को छुड़ाना भी चाहा, लेकिन युवा की आंखों से निकलती नफरत की चिंगारी देख वह भी फिर पीछे खिसकने पर मजबूर हो गई। राह चलते राहगीर भी उदासीनता से यह सब दृश्य देख रहे थे लेकिन युवा के गुस्से को देखकर किसी में इतनी हिम्मत नहीं हुई कि उसे रोक पाते और आख़िर जवानी के नशे मे चूर इस युवक ने एक जोरदार थप्पड़ साधु के चेहरे पर जड़ दिया बूढ़ा साधु थप्पड़ की मार से लड़खड़ाता हुऐ कीचड़ में जा पड़ा। युवक ने जब साधु को नीचे गिरता देखा तो मुस्कुराते हुए वहां से चल दिया। बूढे साधु ने आकाश की ओर देखा और उसके होठों से निकला वाह मेरे भगवान कभी गरम दूध जलेबियां और कभी गरम थप्पड़.... लेकिन जो तू चाहे मुझे भी वही पसंद है। यह कहता हुआ वह एक बार फिर अपने रास्ते पर चल दिया।

दूसरी ओर वह युवा जोड़ा अपनी मस्ती को समर्पित अपनी मंजिल की ओर अग्रसर हो गया। थोड़ी ही दूर चलने के बाद वे एक मकान के सामने पहुंचकर रुक गए। वह अपने घर पहुंच गए थे, वे युवा अपनी जेब से चाबी निकाल कर अपनी पत्नी से हंसी मजाक करते हुए ऊपर घर की सीढ़ियों तय कर रहा था। बारिश के कारण सीढ़ियों पर फिसलन हो गई थी अचानक युवा का पैर फिसल गया और वह सीढ़ियों से नीचे गिरने लगा। महिला ने बहुत जोर से शोर मचा कर लोगों का ध्यान अपने पति की ओर आकर्षित करने लगी जिसकी वजह से काफी लोग तुरंत सहायता के लिये युवा की ओर लपके..... लेकिन देर हो चुकी थी युवक का सिर फट गया था और कुछ ही देर मे ज्यादा खून बह जाने के कारण इस नौजवान युवक की मौत हो चुकी थी। 

कुछ लोगों ने दूर से आते साधु बाबा को देखा तो आपस में कानाफुसी होने लगीं कि निश्चित रूप से इस साधु बाबा ने थप्पड़ खाकर युवा को श्राप दिया है, अन्यथा ऐसे नौजवान युवक का केवल सीढ़ियों से गिर कर मर जाना बड़े अचम्भे की बात लगती है। कुछ मनचले युवकों ने यह बात सुनकर साधु बाबा को घेर लिया एक युवा कहने लगा - 'आप कैसे भगवान के भक्त हैं जो केवल एक थप्पड़ के कारण युवा को श्राप दे बैठे। भगवान के भक्त मे रोष व गुस्‍सा हरगिज़ नहीं होता। आप तो जरा सी असुविधा पर भी धैर्य न कर सकें।' साधु बाबा कहने लगा भगवान की क़सम मैंने इस युवा को श्राप नहीं दिया। अगर आप ने श्राप नहीं दिया तो ऐसा नौजवान युवा सीढ़ियों से गिरकर कैसे मर गया

तब साधु बाबा ने दर्शकों से एक अनोखा सवाल किया कि आप में से कोई इस सब घटना का चश्मदीद गवाह मौजूद हैएक युवक ने आगे बढ़कर कहा, 'हाँ मैं इस सब घटना का चश्मदीद गवाह हूँ ।' साधु ने अगला सवाल किया- 'मेरे क़दमों से जो कीचड़ उछला था क्या उसने युवा के कपड़े को दागी किया था?' युवा बोला- 'नहीं...!! लेकिन महिला के कपड़े जरूर खराब हुए थे' उस मस्ताने साधु ने युवक की बाँहों को थामते हुए पूछा, ' फिर युवक ने मुझे क्यों मारा?' युवा कहने लगा-' क्योंकि वह युवा इस महिला का प्रेमी था और यह बर्दाश्त नहीं कर सका कि कोई उसके प्रेमी के कपड़ों को गंदा करे..... इसलिए उस युवक ने आपको मारा....' 

युवा की बात सुनकर साधु बाबा ने एक जोरदार ठहाका बुलंद किया और यह कहता हुआ वहाँ से विदा हो गया, 'तो भगवान की क़सम मैंने श्राप कभी किसी को नहीं दिया लेकिन कोई है जो मुझ से प्रेम रखता है। अगर उसका यार सहन नहीं कर सका तो मेरे यार को कैसे बर्दाश्त होगा कि कोई मुझे मारे और वह इतना शक्तिशाली है कि दुनिया का बड़े से बड़ा राजा भी उसकी लाठी से डरता है।मेरा यार.. , मेरा प्यार... , वो परमात्मा ही है। उस परमात्मा की लाठी दीख़ती नही और आवाज भी नही करती लेकिन पडती हैं तों बहुत दर्द देती है।'


हमारे कर्म ही हमें उसकी लाठी से बचातें हैं बस कर्म अच्छे होने चाहिये...

Sunday, January 26, 2014

पीए साहब || PA Sahab


पात्र परिचय
पीए साहब        एक बत्तीस वर्ष का नौजवान, पढ़ा-लिखा, ऊर्जावान, अच्छी कद-काठी का जवान।
बड़े बाबू         एक सरकारी कार्यालय के कार्यालय अधीक्षक, उम्र लगभग 55 वर्ष। दुबला-पतला शरीर, चेहरे एवं पहनावे से शालीन।
रामधनी        सरकारी कार्यालय का चपरासी। उम्र लगभग 50 से 55 वर्ष के बीच। कुर्ता-पाजामा पहने हुए और कन्धे पर एक गमछा रखे हुए। शरीर दुबला पतला है। चेहरे पर चमक है। शान्त स्वभाव का सीध-साधा कर्मचारी। 
मिश्राजी, शर्माजी, जावेद, अच्छेलाल - उसी सरकारी कार्यालय के अन्य कर्मचारीगण, पहनावा सामान्य।

प्रथम दृश्य
सब कुछ रोज जैसा ही चल रहा है। रामधनी ने आकर कार्यालय का दरवाजा खोला। दरवाजा खुलते ही सफाईकर्मी अपने अपने काम में लग गये। रामधनी ने एक कुशल पर्यवेक्षक की तरह कार्यालय के कोने कोने की सफाई करवाई। जब रामधनी कार्यालय की सफाई से आश्वस्त हो गया तब उसने साहब की मेज को व्यवस्थित किया, बगिया से दौड़कर फूल लाया और गुलदस्ता सजाया। गिलास को कई बार धुल-चमकाकर साहब के लिए पीने का पानी रखा। रामधनी इस कार्यालय का सबसे पुराना चपरासी है। यह सब कार्य उसकी दैनिक दिनचर्या का अंग हैं। वह बिना चूके प्रतिदिन एक मुस्तैद सिपाही की तरह सारे कार्यों को अन्जाम देता है।

साहब के कमरे से ही लगा हुआ एक छोटा सा कमरा साहब के वैयक्तिक सहायक का है। कार्यालय में सब उन्हें पीए साहब कहते हैं। साहब-सूबा तो रौबदार होते ही हैं पीए साहब उनसे भी अधिक रौबदार हैं। साहब के कमरे की साफ-सफाई के बाद रामधनी ने उसी लगन एवं मुस्तैदी के साथ पीए साहब का कमरा व्यवस्थित किया और फिर वहीं बैठकर साहब के आने की प्रतीक्षा करने लगा।

(पीए साहब का प्रवेश। शक्ल-सूरत एवं पहनावे से अफसर सरीखे। चाल-ढाल भी अफसरों जैसी। एक पढ़े-लिखे व्यक्ति की छवि। दिमाग में पता नहीं क्या उधेड़-बुन चल रही है। लग रहा है पूरे देश की जिम्मेदारी इन्हीं के कन्धों पर जबरन लाद दी गयी हो।)

पीए (बुदबुदाते हुए)-   कैसे कामचोरों से पाला पड़ा है। एक काम भी ठीक से नहीं कर सकते। (चिल्लाते हुए) रामधनी .... रामधनी .......
रामधनी - जी साहब
पीए - ये क्या रामधनी। तुमको एक बारे में कोई चीज समझ में नहीं आती? ये फाइल फिर यहां कैसे आ गयी?
रामधनी (धीरे से)- जी.... बड़े साहब आपय के देय के कहे रहे ...।
पीए - (गुस्से से चिल्लाते हुए) - देय के कहे रहे। .... अरे देय के कहे रहे तो क्या तू मेरे सिर पर रख देगा? ...  उधर रख आलमारी में। (बुदबुदाते हुए) किसी से प्यार से बोल क्या दो सिर पर चढ़ जाते हैं। आपय के देय के कहे रहे ...
रामधनी (चुटकी लेते हुए) - साहेब आज घर से झगड़ा कइ के आये हैं का? बड़े गुस्सा मा हैं?
पीए - फालतू बकवास बन्द। जा के एक कप चाय बना के ला। और हां .... शक्कर थोड़ी ज्यादा डालना। ... (सिर पर हाथ फेरते हुए, खुद से ही ) ... सिर दर्द से फटा जा रहा है।
(रामधनी चाय बनाने के लिए जैसे ही कमरे से बाहर निकलता है, दरवाजे पर खड़े बड़े बाबूजी से टकराते-टकराते बचता है।)
रामधनी - राम राम बाबू जी।
बड़े बाबू- राम राम। ... और रामधनी ... सुबह सुबह कहां दौड़ लगा दी?
रामधनी - कुछ नहीं बाबू जी। पीए साहेब की खातिर चाय बनावे जा रहे हैं। (धीरे से) आजकल न जाने का होइ गवा है सीधे मुह बातय नहीं करते।
(बड़े बाबू और रामधनी की उम्र में ज्यादा अन्तर न था। दोनों के पचास बसन्त पूरे हो चुके थे। इस कार्यालय में दोनों ने साथ साथ बीस-बाईस बरस तक अच्छे-बुरे दिन साथ-साथ बिताये। कभी एक-दूसरे को शिकायत का मौका नहीं मिला। कभी किसी बात पर कुछ कहा सुनी हो भी गयी तो फिर कुछ ही देर में सब कुछ कहा-सुना माफ, जैसे कुछ हुआ ही न हो। उम्र के इस दौर में यदि व्यक्ति को अनावश्यक डांट-फटकार मिले तो उसका हृदय दुखी होना स्वाभाविक था।)
रामधनी (दुखी मन से) - आप तो सब जानिथ है बड़े बाबू। एतनी उमिर बीत गई। कभौ सिकाइत के मौका नहीं दिहा। ना जाने काहे आजकल पीए साहेब हमसे गुस्सा हैं। ई उमिर में ई सब बर्दास नहीं होय बाबू जी। बाबूजी हमार ड्यूटी कहूं अउर लगवाय दें। कउनव दिन हमरे मुहे से कुछ निकल गवा ....
बड़े बाबू - (बड़े बाबू ने आश्वस्त करने वाली मुस्कान के साथ रामधनी की ओर देखा और रामधनी के कंधे पर हाथ रखकर ढाढस बंधाते हुए बोले) मैं बात करता हूं। .... तुम जाओ अपना काम करो ...
(बड़े बाबू ने रामधनी को आश्वासन तो दे दिया, लेकिन वे खुद भी बड़े असमंजस में हैं कि वे पीए से कहें भी तो क्या कहें। इन दिनों कई मसलों पर उनकी खुद की पीए से कहासुनी हो चुकी है। लेकिन बड़े बाबू होने के नाते, कार्यालय का मुखिया होने के नाते ये उनका कर्तव्य है कि वे कार्यालय के अन्दर काम करने का एक अच्छा वातावरण बना कर रखें। उन्होंने हिम्मत बटोरी और चल पड़े पीए के पास)
बड़े बाबू (सौम्य मुस्कान से साथ) - क्या पीए साहब! बड़ा हो-हल्ला मचा रखा है।
पीए - ये सब आपके कारण ही हो रहा है। कार्यालय की कोई मर्यादा ही नहीं है। टके-टके के आदमी काम कम करते हैं और जुबान ज्यादा चलाते हैं। मेरे साथ ये सब न चलेगा। आप ही इन्हें अपने सिर पर बिठा कर रखिये। 
(पीए साहब और न जाने क्या-क्या बड़बड़ाते रहे। बड़े बाबू अपना सा मुंह लेकर उल्टे पांव वापस आ गये। बड़े बाबू को मन में मलाल था कि वे आखिर क्यों गये पीए के पास। उम्र में बड़े बाबू पीए के पिता के समान हैं। उनका स्वभाव इतना सीधा और सरल था कि आज तक उनपर कोई उंगली तक न उठा सका था। बड़े बाबू ने अपने चारों तरफ देखा कि किसी ने देखा या सुना तो नहीं। चलो गनीमत यही थी कि अभी कार्यालय में कोई आया नहीं था। वैसे भी सरकारी कार्यालयों में ग्यारह बजे के पहले कोई आता भी कहां है। बड़े बाबू की इज्जत इस लेट-लतीफी की वजह से बच गई। रामधनी सब सुन-देख रहा था, लेकिन बड़े बाबू को उस पर अपने से ज्यादा भरोसा था। वे जानते थे कि रामधनी ऐसी बातों का जिक्र किसी से भी नहीं करेगा। रामधनी भले ही इन बातों को जिक्र कहीं न करे लेकिन ये बातें छिपती नहीं हैं।)

द्वितीय दृश्य

आज कार्यालय में चर्चा का बाजार गर्म है। हर तरफ यही चर्चा चल रही है। सभी कुछ न कुछ बुदबुदा रहे हैं। जैसे-तैसे दोपहर हुई। लन्च का समय होते ही सभी बाबू चाय की दूकानों की तरफ चल पड़े। आज तो सबके पैरों में कुछ ज्यादा ही गति थी। सभी एक-दूसरे को पुकारते हुए कार्यालय के बाहर निकल रहे थे जैसे किसी अतिमहत्वूपर्ण मिशन पर निकल रहे हों। दूकान पर पहुंच कर।)

मिश्रा जी - आज सबकी चाय मेरी तरफ से। (दूकानदार की तरफ) गुड्डू भाई चार चाय देना और साथ में थोड़ी नमकीन भी। 
शर्मा जी - अरे चार नहीं पांच चाय देना। बड़े बाबू भी आ रहे हैं। (बड़े बाबू की तरफ) अरे बड़े बाबू जी आइये .... आइये ... इधर बैठिये ... (कुर्सी उनकी ओर सरकाते हुए)
बड़े बाबू (कुर्सी पर बैठते हुए। चेहरे पर वही सौम्य मुस्कान। जैसे कुछ हुआ ही नहीं। चुटकी लेते हुए) - आज पूरा का पूरा अमला एक साथ .... क्या बात है भाई? ....
मिश्रा जी (शिकायती लहजे में) - आप तो जैसे कुछ जानते ही नहीं। ...
बड़े बाबू (स्थिर भाव से) - सही कह रहा हूं। मुझे नहीं पता। किसी का जन्मदिन है क्या आज? (प्रश्नवाचक मुद्रा में) 
जावेद - अच्छा बड़े बाबू जब आपको नहीं मालूम तो आप बैठिये और आराम से चाय पीजिए।
शर्मा जी - भाई मैं तो कहता हूं कि ऐसे आदमी के साथ अब काम करना मुश्किल है। बात-बात में गरम हो जाता है। हमारे शरीर में भी खून है। किसी दिन .....
जावेद - मुझसे तो कभी टकराया ही नहीं। नहीं तो वहीं पर दो-चार धर के आता। कोई चूड़ियां नहीं पहन रखी है। आप लोग पता नहीं कैसे बर्दाश्त करते हैं ...
अच्छेलाल - मुझे तो कोई और ही चक्कर समझ में आता है। देखते नहीं आजकल कितनी छुट्टियां लेता है। आये दिन बाहर जाता है। किसी लड़की-वड़की का ......
बड़े बाबू - अरे भाई .... ऐसी कोई बात नहीं है। मैं अच्छी तरह जानता हूं उसे। वो ऐसा लड़का नहीं है। 
मिश्रा जी - सही बात। बिना जाने समझे किसी के चरित्र पर कीचड़ नहीं उछालना चाहिए।
जावेद (मजाकिया लहजे में) - अगर किसी जिन्न या प्रेत का चक्कर हो तो मैं जानता हूं झाड़-फूंक करने वाले एक फकीर को .... बहुत पहुंचे हुए हैं ... हा हा हा ... (सभी हंसने लगते हैं)
बड़े बाबू (विचारमग्न मुद्रा में। गम्भीर स्वर में) - मुझे लगता है कि वो किसी नशे का आदी हो गया है। आज का युवा नशे का शिकार बड़ी तेजी से हो रहा है खासकर जो युवा स्वावलम्बी हैं। इसीलिए हमेशा खोया-खोया रहता है और बहकी-बहकी बातें करता है।
मिश्रा जी - बड़े बाबू .... मुझे भी यही लगता है कि वह किसी नशीली गोली का सेवन करता है। क्योंकि एक बार जब मैं उसके कमरे में गया तो वो कोई दवा खाकर पानी पी रहा था। मेरे लाख पूछने पर भी बन्दे ने न तो मर्ज बताया और न ही दवा का रैपर देखने दिया। पहले तो मैं ही उसका फैमिली वैद्य हुआ करता था। डाक्टर कुछ भी दवा लिख दे,... बन्दा मुझसे सलाह किये मजाल क्या थी कि एक भी गोली खा ले।
शर्मा जी - मुझे भी यही लगता है। देखते नहीं आजकल कैसा झुंझलाया सा रहता है। और मैंने तो यहां तक भी सुना है कि आजकल बड़े साहब से भी पटरी नहीं खा रही है।
बड़े बाबू (घड़ी देखते हुए) - अरे भाई कार्यालय नहीं चलना है क्या। जलपान का समय कब का खत्म हो गया और तुम्हारी चैपाल है कि खत्म ही नहीं होती। चलो- चलो .. (सभी उठकर कार्यालय की ओर जाते हैं। मिश्रा जी दुकानदार को पैसे देते हैं।) 

तृतीय दृश्य
पन्द्रह दिनों के बाद
आज भी कार्यालय रोज की तरह खुला, लेकिन रामधनी के चेहरे से मुस्तैदी गायब है। कार्यालय की साफ-सफाई रोज की तरह ही हुई। कार्यालय में जैसे कोई रौनक ही न हो। कार्यालय की साफ सफाई खतम हुई। धीरे-धीरे करके सभी कर्मचारी आने लगे। रोज की तरह सबसे पहले बड़े बाबू, उसके बाद मिश्राजी, शर्माजी सबसे अन्त में अच्छेलाल। सबके चेहरे पर मायूसी और प्रश्नचिह्न साफ-साफ झलक रहा था। बड़े बाबू ने बिना किसी से कोई बात किये अपनी दराज खोली और लिफाफों का एक बंडल निकाला। हर लिफाफे पर एक-एक कर्मचारी का नाम लिखा था। ये लिफाफे पीए साहब ने बड़े बाबू के पास छुट्टी जाते समय रख दिया था साथ ही निर्देश भी दिया था कि इन लिफाफों को वितरित करने का समय पीए साहब बतायेंगे। यह कौन जानता था कि पीए साहब का यह अवकाश उनका अन्तिम अवकाश है और वे कभी न खत्म होने वाले अवकाश पर चले जायेंगे। पीए साहब की असामयिक मृत्यु ने सभी को सकते में डाल दिया है। कल रात बड़े बाबू के पास पीए साहब के घर से उनकी मृत्यु की खबर आई साथ ही लिफाफे बांटने का सन्देश भी मिला। बड़े बाबू ने आज कार्यालय आकब सबसे पहले लिफाफे बांटने का ही कार्य किया। एक-एक करके सबने लिफाफे लिए। सभी लिफाफों में एक-एक खत था। सभी ने असमंजस के साथ खत खोला और पढ़ने लगे। सब अपना-अपना खत पढ़ रहे हैं और उनकी आंखों से पश्चाताप के आंसू अनायास ही बहे जा रहे हैं। किसी की हिम्मत नहीं हो रही है कि वह एक-दूसरे से आंख मिला सके या यह देख सके कि दूसरा भी रो रहा है या नहीं। बड़े बाबू ने भी अपना खत पढ़ा और खत मेज पर रखकर अपना चश्मा उतारा और आंसू पोंछे। बड़े बाबू को कुछ स्थिर देखकर.... रामधनी बड़े बाबू के पास आकर धीरे से कहता है
रामधनी - हे बड़े बाबू, तोहार गोड़ लागी ... तनी हमरव लिफफवा खाली न ....। तनी पढ़ि के सुनाई त कि हमरे पीए साहेब का लिखे हैं। हम निरक्षर आदमी ई करिया अच्छर का समझी।
बड़े बाबू (आंसू पोछकर चश्मा उठाते हैं और रामधनी से पत्र लेकर पढ़ते हैं।) - रामधनी काका, जब ये खत आपको मिलेगा तब तक मैं आपसे बहुत दूर जा चुका होउंगा। मैं जानता हूं कि मुझे ब्लड कैंसर है और बीमारी इस स्तर पर पहुंच चुकी है कि अब इसका कोई इलाज नहीं। मैं चाहता था कि मेरे जाने के बाद आप सब को दुख न हो इसलिए मैंने जानबूझ कर रूखा स्वभाव अपना लिया था। रामधनी काका आप तो मेरे पिता के समान हैं, मेरा कहा-सुना अपना बेटा मानकर भुला देना और हो सके तो मुझे माफ कर देना। 
आपका अपना
पीए साहब

Saturday, January 25, 2014

मैं भी लिख सकता हूं कविता


फिर आया है याद मुझे कि
मैं भी लिख सकता हूं कविता।
नभ-जल-थल-आकाश विषय पर,
जीवन के एहसास, समय पर
भूली बिसरी यादों पर
पूस-माघ और भादों पर
जीवन में जो घटता-बचता
मैं भी लिख सकता हूं कविता।

जीना-मरना, जस-अपजस पर
यति-गत, नीरस और सरस पर
हर्ष-विषाद, सबल-निर्बल पर
हार-जीत और ठोस-तरल पर
शब्द-विलोम से रच दी कविता
मैं भी लिख सकता हूं कविता।

पक्षी-विहग-शकुनि-नभचर पर
दैत्य-दनुज-राक्षस-निशिचर पर
भानु-भास्कर-रवि-दिनकर पर
भंवरा-मधुप-भ्रमर-मधुकर पर
सम-अर्थी शब्दों की कविता
मैं भी लिख सकता हूं कविता।

नृत्य-नाच और अक्षि-आंख पर
पंच-पांच और लक्ष-लाख पर
चन्द्र-चांद और दंत-दांत पर
कर्म-काम और सप्त-सात पर
तत्सम-तद्भव की यह कविता
मैं भी लिख सकता हूं कविता।

Tuesday, October 25, 2011

अपने गुरुजनों को सादर समर्पित



गुरुजन अपने कितने प्यारे,
ब्रह्मा विष्णु शिवा हमारे,
खुद जलकर जीना सिखलाते,
जीवन राह दिखाने वाले,
मात पिता और सखा हमारे
गुरुजन अपने कितने प्यारे।

गुरु बिन ज्ञान नहीं मिलता रे,
ग्रन्थ पड़े रहते हैं सारे,
गुरु हमारे ज्ञान दीप हैं,
अन्धकार काटे हैं सारे।

सारे वन की कलम बनाकर,
सागर जल को बना के स्याही,
धरती को कागज करके भी,
गुरुगुन लिखते दुनिया हारी।

Sunday, April 10, 2011

मन की व्यथा



मन की व्यथा कहूं मैं किससे, कोई न अपना मीत यहां।
मन पंछी पिंजड़े के भीतर, इसे सुकूं अब मिले कहां।

मीठे फल के फेर में पड़ के, कर बैठा बस इतनी भूल।
समझ न पाया इस दुनिया को, यहां तो सब है सेमल फूल।

जब आया पिंजड़े के भीतर, आजादी को तब जाना।
जेल की चुपड़ी रोटी से, अच्छा है भूखे मर जाना।

एक बार का मरना अच्छा, आजादी का वरण करो।
पराधीन सपनेहुं सुख नाही, आज इसे स्मरण करो।

मानव बन मानव का बैरी, दिल पर चोट बहुत है करता।
यही सोच मैं बैठा हूं के, ऊपर वाला न्याय है करता।

सरी चोट सहूंगा दिल पे, घाव एक न दिखलाऊंगा।
मलिक तू सब देख रहा है, और किसी से न गाऊंगा।

ईश्वर तेरी लाठी में आवाज नहीं पर चोट बड़ी है।
इंतजार मैं करूंगा स्वामी, विषम घड़ी अब आन पड़ी है।

चित्र marypages.com से साभार

Thursday, January 13, 2011

एक दूजे के लिए हम बने थे नहीं


एक दूजे के लिए हम बने थे नहीं,
फिर भी प्यारा हमारा ये साथ रहा।
खुशियां बांटी हैं जीवन की मिलके सभी,
और दुख में भी तुम्हारा साथ रहा।

ये पता था हमें मिल सकेंगे नही,
फिर भी प्यारा सा इक एहसास रहा।
कच्ची डोरी से हम तुम बंधे ही नहीं
फिर भी बंधन का इक एहसास रहा।

दिल के रिश्ते हैं जो खुद ही जुड़ जाते हैं,
किसी बंधन का इनमें न भास रहा।
प्यार की डोर होती है पावन बड़ी,
इसकी मर्यादा का हमको भास रहा।

यादें दिल में बसी हैं रहेंगी सदा,
चाह कर भी न इनको भुला पाउंगा।
है यहीं मुझको ऐ मेरे प्यारे सनम,
होगे तनहाई में तो मैं याद आऊंगा।

जिन्दगी का सफर है ये लम्बा मगर
प्यार की यादों में ही गुजर जायेगा।
खुश रहो मेरे हमदम ओ मेरे सनम
दिल दुआ देगा हरदम ये दोहरायेगा।

Tuesday, October 5, 2010

कितना प्यार मुझे है तुमसे कैसे तुमको बतलाऊं


कितना प्यार मुझे है तुमसे कैसे तुमको बतलाऊं
हनूमान मैं नहीं प्रिये जो चीर कलेजा दिखलाऊं।

तुमको याद किया करता हूं मैं प्रतिपल आंहें भरता हूं
यकीं दिलाऊ कैसे तुमको प्यार बहुत मैं करता हूं।

होती जब भी बात तुम्हारी छुप-छुप कर मैं सुनता हूं
ना देखूं मैं जिस दिन तुमको पागल सा मैं लगता हूं।

प्रीत की रीत निभाऊं कैसे, मुझे नहीं है कुछ आता
बिन देखे अब चैन नहीं है, काश मैं तुमसे कह पाता।

आंखें तेरी हुई दिवानी, नहीं इन्हें हैं कुछ भाता
हर पल चाहें सूरत तेरी, दूजा कुछ भी नहीं सुहाता।

दिन में खोया-खोया रहता, नींद न आती रातों में
भरी चूड़ियां हरदम दिखतीं, मेंहदी वाले हाथों में।

हर आहट पे चौक मैं पड़ता मिलता मुझको आभास तेरा
दिल में उठती घोर निराशा जब न मिलता साथ तेरा।

खत मैंने हैं बहुत लिखे पर एक न तुमको भेज सका
डर लगता है पढ कर इनको, हो न जाओ कहीं खफा।

मैं देखूंगा बाट तुम्हारी, किया इरादा पक्का है
तुम भी मुझसे प्यार करोगी, प्यार मेरा गर सच्चा है।

चित्र  chennai.olx.in से साभार